Home मध्य-प्रदेश 16 वर्षीय नाबालिग के दुष्कर्म के मामले में सतना की राजनीति में...

16 वर्षीय नाबालिग के दुष्कर्म के मामले में सतना की राजनीति में उबाल

607

दैहिक शोषण के आरोपी गिनी उर्फ अतीक मंसूरी उर्फ समीर उर्फ सिकंदर को पास्को एक्ट की विशेष कोर्ट ने भेजा 2 दिन की पुलिस रिमांड में

सतना, शनिवार। दोस्ती और शादी का वादा फिर परिजनो को जान से मार देने की धमकी देकर कर नाबालिक को हवस का शिकार बना कर 2 साल तक दैहिक शोषण करने वाले काग्रेंस के कथित कार्यकता आरोपी गिनी उर्फ अतीक मंसूरी उर्फ समीर उर्फ सिकंदर की गिरफ्तारी के बाद प्रदेश की राजनीति में सतना से भोपाल तक उबाल आ गया। इसी बीच जिला कोर्ट में पास्को एक्ट की स्पेशल कोर्ट ने कोलगवां पुलिस ने आरोपी को पेश कर 2 दिन की रिमांड मांगी। विशेष अदालत ने पुलिस की मांग मंजूर कर दुष्कर्म और ब्लैकमेल के आरोपी को 14 सितम्बर की दोपहर 12 बजे तक की पुलिस रिमांड में भेज दिया है।

लिखित रिपोर्ट पर दर्ज हुआ पाक्सो और दुष्कर्म का प्रकरण

कोलगवां थाना अर्न्तगत सिंधी कैम्प निवासी 16वर्षीय किशोरी की लिखित शिकायत पर 11 सितम्बर को रात करीव 11 बजे आरोपी के खिलाफ थाना पुलिस ने आईपीसी के सेक्सन 376(ध)(ढ),323,506 और 5/6 पॉक्सो अधिनियम के तहत कायमी की। थाना पुलिस ने प्रकरण दर्ज किए जाने के 24 घंटे के अन्दर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। 23 मार्च 2018 से 6 जून 2020 के बीच लगातार धमका कर आरोपी ने पीड़िता का दैहिक शोषण किया और नजीराबाद स्थित अपने फार्म हाउस में ले जाकर पीड़िता के साथ जबरजस्ती करता था। आरोपी के चुगुल में फसी नाबालिग पीड़िता ने धटना की जानकारी अपने परिजनो को देकर शुक्रवार को थाना पहुच कर आरोपी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दिया।

ब्लैकमेल और ब्याज वशूली का पूरा नेटवर्क

विक्ट्री साइन दिखता आरोपी
मामूली शटर की दुकान से जिम और करोड़ो के फार्म हाउस तक संपत्ति की मिल्कियत बनाने बाले आरोपी के खिलाफ ब्लैकमेल कर दैहिक शोषण करने का यह पहला प्रकरण है जिसमें रिपोर्ट के बाद प्रकरण दर्ज किया है। बहुत से ऐसे मामले है जिनमें लोक-लाज के भय से पीड़ितो ने शिकायत तक नही की आरोपी को ब्लैक मेल के करोडो रुपए दे दिए। इसके अलावा के आरोपी के खिलाफ शहर के चर्चित मामले में भी शामिल होने के आरोप लग रहे है।

उधर एसआईटी गठित कर एसपी ने की अपील

जिले के पुलिस कप्तान रियाज इकबाल ने इस घटना क्रम के बाद मामले की जांच के लिए सीएसपी विजय प्रताप सिंह के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया है। इसके साथ ही एसपी श्री इकबाल ने अपील जारी की है कि यदि इस अपराधी अतीक मंसूरी उर्फ समीर पिता निजामुद्दीन खान 40 वर्ष निवासी कंपनी बाग, हाल नजीराबाद कोतवाली के बारे में किसी के पास कोई सूचना, कोई शिकायत हो या कोई इसके ब्लैकमेलिंग का शिकार हुआ हो, तो वह निर्भय होकर सामने आए और उसकी शिकायत करें। यह आश्वासन दिया है कि दी गई जानकारी को गोपनीय रखा जाएगा और सतना पुलिस द्वारा ऐसे अपराधियों के विरुद्ध में कड़ी से कड़ी और कार्यवाई की जाएंगी। देर शाम सीएसपी विजय प्रताप सिंह के नेतृत्व में गठित एसआईटी ने कार्रवाई करते हुए आरोपी का सायबर कैफे सील कर दिया।

डीजी अभियोजन के निर्देशन में अभियोजन पैरवी में मुस्तैद

संचालक लोक अभियोजन पुरुषोत्तम शर्मा के मार्गदर्शन में जिले के अभियोजन विभाग ने भी पैरवी का मोर्चा सम्हाल लिया है। रीवा संभाग के अभियोजन प्रवक्ता फखरुद्दीन ने बताया कि शनिवार को राज्य सामन्वयक महिला अपराध के निर्देशन पर डीपीओ आरपी सिंह और एडीपीओ की टीम ने वीसी के माध्यम से पास्को एक्ट की विशेष कोर्ट में आरोपी के रिमांड मांग के सर्मथन में दलील दी। अदालत को बताया कि आरोपी से जब्त समग्री के संबंध में और प्रकरण से संबंधित पूछताछ होनी है। आरोपी के नेटवर्क के बारे में भी जानकारी एकत्र करना है। डीपीओ श्री सिंह ने बताया कि महिला अपराध के प्रकरणो में गंभीरता के साथ कार्रवाई का निदेश डीजी अभियोजन ने दिया है। ऐसे प्रकरणो की डे-टू-डे जानकारी जिला संमन्वयक के माध्यम से राज्य संमन्वयक को देने का निर्देश है, ताकि अपराधी को उसके किए गए अपराध की सजा दिलाई जा सके।